बाहर बाहर Bahara Bahara Lyrics

Lyrics : Rakesh Kumar (Kumaar)

Music : Shekhar Ravjiani, Vishal Dadlani

Label : Sony Music

Bahara Bahara Lyrics in English :

Hoo tora saajan
Aayo tore desh

Badli badra badla saavan
Badla jag ne bhes re
Tora saajan
Aayo tore desh

Soyi soyi palkon pe chal ke
Meri sapno ki khidki pe aa gaya
Aate jaate phir mere dil ke,
Inn haathon mein woh khat pakda gaya

Pyaar ka
Lafzon mein rang hai pyaar ka
Bahara bahara
Hua dil pehli baar vee
Bahara bahara
Ki chain to hua faraar vee
Bahara bahara
Hua dil pehli pehli baar vee
Ho tora saajan
Aayo tore desh
Badli badra badla saavan
Badla jag ne bhes re
Tora saajan
Aayo tore desh

Woh kabhi dikhe zameen pe
Kabhi woh chaand pe
Yeh nazar kahe use yahan
Main rakh loon baandh ke ek saans mein
Dhadkano ke paas mein
Haan paas mein ghar banaye
Haye bhoole yeh jahan

Bahara bahara
Hua dil pehli baar vee
Bahara bahara
Ki chain to hua faraar vee
Bahara bahara
Hua dil pehli pehli baar vee

Preet mein tori Ore sawariya
Payal jaise chanke bijuriya
Cham cham naache tan pe badariya hoo O o OoO
Baadaliya tu barse ganah
Barse ganah.
Barse ganah..
Barse ganah….

Jo yeh badaliyan
Woh ched de
To chalke baarishein
Woh de aahatein
Kareeb se
To bole khwaishein ke aaj kal
Zindagi har ek pal
Har ek pal se chahe
Haye jiska dil hua

Bahara bahara
Hua dil pehli baar vee
Bahara bahara
Ki chain to hua faraar vee
Bahara bahara
Hua dil pehli pehli baar vee

Soyi soyi palkon pe chal ke
Meri sapno ki khidki pe aa gaya
Aate jaate phir mere dil ke,
Inn haathon mein woh khat pakda gaya

Pyaar ka
Lafzon mein rang hai pyaar ka

Bahara bahara
Hua dil pehli baar vee
Bahara bahara
Ki chain to hua faraar vee
Bahara bahara
Hua dil pehli pehli baar vee

Ho tora saajan
Aayo tore desh
Badli badra badla saavan
Badla jag ne bhes re
Tora saajan
Aayo tore desh.

Bahara Bahara Lyrics in Hindi :

हूँ तेरा साजन
ायो तोरे देश

बदली बड्रा बदला सावन
बदला जग ने भेस रे
तोरा साजन
ायो तोरे देश

सोई सोई पलकों पे चल के
मेरी सपनो की खिड़की पे आ गया
आते जाते फिर मेरे दिल के
इन् हाथों में वह ख़त पकड़ा गया

प्यार का
लफ़्ज़ों में रंग है प्यार का
बाहर बाहर
हुआ दिल पहली बार वे
बाहर बाहर
की चैन तो हुआ फरार वी
बाहर बाहर
हुआ दिल पहली पहली बार वे
हो तेरा साजन
ायो तोरे देश
बदली बड्रा बदला सावन
बदला जग ने भेस रे
तोरा साजन
ायो तोरे देश

वह कभी दिखे ज़मीन पे
कभी वह चाँद पे
यह नज़र कहे उसे यहाँ
मैं रख लूँ बाँध के एक सांस में
धड़कनो के पास में
हाँ पास में घर बनाए
हाय भूले यह जहाँ

बाहर बाहर
हुआ दिल पहली बार वे
बाहर बाहर
की चैन तो हुआ फरार वी
बाहर बाहर
हुआ दिल पहली पहली बार वे

प्रीत में टोरी ओरे सावरिया
पायल जैसे चैंके बिजुरिया
चम् चम् नाचे तन पे बदरिया हूँ ो ो ोू
बादलिया तू बरसे गणाः
बरसे गणाः.
बरसे गणाः..
बरसे गणाः….

जो यह बदलियां
वह छेद दे
तो चलके बारिशें
वह दे आहटें
करीब से
तो बोले ख्वाइशें के आज कल
ज़िन्दगी हर एक पल
हर एक पल से चाहे
है जिसका दिल हुआ

बाहर बाहर
हुआ दिल पहली बार वे
बाहर बाहर
की चैन तो हुआ फरार वी
बाहर बाहर
हुआ दिल पहली पहली बार वे

सोई सोई पलकों पे चल के
मेरी सपनो की खिड़की पे आ गया
आते जाते फिर मेरे दिल के
इन् हाथों में वह ख़त पकड़ा गया

प्यार का
लफ़्ज़ों में रंग है प्यार का

बाहर बाहर
हुआ दिल पहली बार वे
बाहर बाहर
की चैन तो हुआ फरार वी
बाहर बाहर
हुआ दिल पहली पहली बार वे

हो तेरा साजन
ायो तोरे देश
बदली बड्रा बदला सावन
बदला जग ने भेस रे
तोरा साजन
ायो तोरे देश.

0Shares
0